मेरे सपनों का घर दरारों से भर गया,
कुछ है जो हाथों की लकीरों से गिर गया।

Author

Write A Comment

Pin It