अजीब अँधेरा है साकी तेरी महफ़िल में,
किसी का दिल जल गया मगर रोशनी नहीं हुई।

Author

Write A Comment

Pin It